India NewsState Newsमध्य प्रदेश

Bageshwar Dham: आरोप पर बोले धीरेंद्र शास्त्री- हाथी चले बाजार कुत्ते भौंके हजार, हमें किसी को प्रमाण पत्र देने की जरूरत नहीं

Bageshwar Dham: बुंदेलखंड के छतरपुर स्थित बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण महाराज चमत्कार को लेकर इन दिनों चर्चा...

Bageshwar Dham: बुंदेलखंड के छतरपुर स्थित बागेश्वर धाम (Bageshwar Dham) के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण महाराज (Pandit Dhirendra Shastri) चमत्कार को लेकर इन दिनों चर्चा का विषय बने हुए है. अभी धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री नागपुर में विरोधों में आ गए हैं. जिस पर धीरेंद्र शास्त्री ने जवाब देते हुए कहा कि ये धर्म विरोधी लोग हैं. हाथी चले बाजार कुत्ता भौंके हजार ऐसी कहानी है. जब हम नागपुर में दिव्य चमत्कारी दरबार लगाए रहे और 7 दिन तक कथा करते रहे , तब उनका बाप मर गया था. धीरेंद्र शास्त्री का कहना है कि हमारा दरबार अभी भी सभी जगह लगा हुआ है. हमें किसी को भी प्रमाण पत्र देने की जरूरत नहीं है.

हमें किसी को प्रमाण पत्र देने की जरूरत नहीं: Bageshwar Dham

भागवत कथा के साथ अपना दिव्य चमत्कारी दरबार बागेश्वर धाम के धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Pandit Dhirendra Shastri) हर राज्य में लगाते हैं. नागपुर में ऐसी ही भागवत कथा आयोजित हुई, जिसमें बगैर दिव्य चमत्कारी दरवार लगाए ही दो दिन पहले यानी 11 जनवरी को संपन्न हो गई थी.जिसमें इन्होने चमत्कारी दरबार नहीं लगाया था. बागेश्वर धाम (Bageshwar Dham) के खिलाफ जिसके बाद जादू टोना कायदा समिति ने मोर्चा खोल दिया. आरोप लगाए है कि धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री बगैर दिव्य चमत्कारी दरबार लगाए नागपुर से भाग गए. धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को हमने चैलेंज दिया था कि आप हम लोगों के बीच दिव्य चमत्कारी दरबार लगाइए आपको 30 लाख रुपए भेंट स्वरूप राशि दी जाएगी अगर आप ऑन कैमरे पर और सत्य बता देंगे तो.

चैलेंज से डरकर भाग गए धीरेंद्र शास्त्री

धीरेंद्र शास्त्री को अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने दी थी चुनौती, श्याम मानव बोले- चैलेंज से डरकर भाग गए धीरेंद्र शास्त्री , हम खोलेंगे पोल
मीडिया से बात करते हुए बागेश्वर धाम (Bageshwar Dham) के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने नागपुर के विषय में बताया कि जानकारी हमको मिली है. हमको दरबार देखना है उनका ऐसा कहना है . शुरुआत में ही हम लोगों ने बता दिया था कि 7 दिन की भागवत कथा होगी. अब जब वहां से हम निकल आए, तो वही कहावत हो गई हाथी चले बाजार कुत्ता भौंके हजार. अब वह लोग कह रहे कि हम 30 लाख रूपए देंगे तो दें 30 लाख हम रख लेंगे उनका पैसा. ये सब लोग धर्म विरोधी हैं, और कुछ नहीं है. जब हम 7 दिन तक नागपुर में कथा करते रहे और दिव्य चमत्कारी दरबार लगाए रहे तब क्या उनका बाप मर गया था. उस समय उन्हें यह याद नहीं आया.

अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति को बागेश्वर धाम शिष्य मंडल समिति की चुनौती, कहा- रायपुर में आकर संतुष्ट हो जाएं

पं धीरेन्द्र शास्त्री ने कहा कि दरबार के दौरान वह लोग आते तो बता देते उन्हें चमत्कार. हमारा दरबार सभी जगह लग हुआ है. हमको किसी को प्रमाण पत्र देने की जरुरत नहीं है हम किसी को प्रमाण पत्र देने के चक्कर में नहीं है. और ना ही हम कोई दावा करते हैं ना ही कोई चमत्कार करते हैं ना कोई दरबार लगाते हैं. हम तो केवल बब्बा जु की सेवा करते हैं. जिस राशि को हमें देने कि बात कर रहे हैं उस राशि 30 लाख को गरीब बेटियों के विवाह में खर्च करें.

Show More

Related Articles

Back to top button