बिहारभोजपुरीसोशल अड्डा

Graduate Chaiwali: ग्रेजुएट चाय वाली के समर्थन में उतरी भोजपुरी अदाकारा Akshara Singh

Graduate Chaiwali: अक्षरा सिंह (Akshara Singh) ने ग्रेजुएट चायवाली प्रियंका गुप्ता का साथ देते हुए अपने इंस्टाग्राम पर पोस्ट भी शेयर किया...

Graduate Chaiwali: पटना में बहुत सारा काम होता है जो गैर-कानूनी तरीके से किया जाता है. अवैध तरीके से शराब बेचीं जाती है मगर वहां सिस्टम एक्टिव नहीं होता. लेकिन कोई लड़की अपना बिजनेस कर रही है तो उसको बार-बार परेशान किया जाता है. ये पटना की फेमस ग्रेजुएट चाय वाली यानी प्रियंका गुप्ता का कहना हैं. बिहार और समाज की हकीकत बया करती प्रियंका गुप्ता राजधानी पटना में वीमेंस कॉलेज के बहार ग्रेजुएट चाय वाली (Priyanka Gupta) के नाम से एक स्टाल लगाती थी.

  • हाल ही में प्रियंका गुप्ता का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा हैं.
  • इनका रोते हुए वीडियो वायरल होने पर लोग हैरत में है.
  • फूट-फूटकर रोने की वजह हैं पटना नगर निगम द्वारा उनका ठेला हटाने का फैसला.

ठेला अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत जब्त: Graduate Chaiwali

  • दरअसल Priyanka Gupta का ठेला अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत जब्त कर लिया गया हैं.
  • प्रियंका ने वीडियो में कहा कि मुझे लगा जब कमिश्नर सर से परमिशन मिल गयी है कि वहां कुछ दिन के लिए हम अपना ठेला लगा सकते हैं तो बार-बार मेरे स्टाल को क्यों उठा लिया जाता हैं.
  • हम हार मान गए हैं सिस्टम के सामने.
  • बता दें कि यह पहली बार नहीं जब प्रियंका का ठेला हटाया गया हो.
  • प्रियंका ने वीमेंस कॉलेज के पास से अपने स्टॉल को बोरिंग रोड में शिफ्ट कर लिया था.
  • इसी बीच में कुछ दिनों पहले पटना नगर निगम ने उनके ठेले को हटा दिया जिसके बाद वो लालू प्रसाद यादव के पास शिकायत लेके पहुंची थी.
  • उन्हें ठेला लगाने कि इजाजत मिल गयी थी.
  • खास बात ये हैं कि इनके स्टॉल पर कई बड़ी हस्ती भी चाय पीने आए हैं.
  • अक्षरा सिंह, विजय देवरकोंडा साथ ही एमबीए चाय वाले के नाम से प्रसिद्ध प्रफुल जैसे बड़ी हस्ती शामिल हैं.

ग्रेजुएट चाय वाली के समर्थन में Akshara Singh

  • अक्षरा सिंह ने तो ग्रेजुएट चायवाली प्रियंका गुप्ता का साथ देते हुए अपने इंस्टाग्राम पर पोस्ट भी शेयर किया है.
  • अक्षरा सिंह ने बिहार सरकार पर सवाल उठाये हैं.
  • अक्षरा सिंह ने कहा कि एक लड़की समाज की झूठी विडंबनाओं को तोड़कर खुद कुछ करने का साहस जुटाती है मगर उसे जब प्रताड़ित किया जाता है तो सबलोग मुकदर्शक क्यों बने रहते हैं.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button