India Newsअर्थ जग़त

Bye-Bye 2022: भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था, अब तीसरे स्थान की ओर अग्रसर

Bye-Bye 2022: भारत के लिए 2022 का वर्ष अर्थव्यवस्था के शक्ति केंद्र के रूप में महत्वपूर्ण साबित हुआ है । भारत ने ब्रिटेन को पछाड़ते हुए...

Bye-Bye 2022: नई दिल्ली, 28 दिसंबर, भारत के लिए 2022 का वर्ष अर्थव्यवस्था के शक्ति केंद्र के रूप में महत्वपूर्ण साबित हुआ है । भारत ने ब्रिटेन को पछाड़ते हुए दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने का तमगा हासिल किया। भारतीय अर्थव्यवस्था ने 854.7 बिलियन डॉलर के साथ दुनिया में यह जगह बनाई । ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था 816 अरब डॉलर के साथ छठे नंबर पर पहुंच गई। ब्रिटेन अब भी अर्थव्यवस्था को लेकर अपने मुश्किल दौर से गुजर रहा है । वहीं भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली इकोनॉमी में शामिल है।

एक दशक पहले, भारत का था 11वां स्थान: Bye-Bye 2022

दरअसल, एक दशक पहले, भारत सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में 11वें स्थान पर था, जबकि ब्रिटेन पांचवें स्थान पर। दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक को पीछे छोड़ना, विशेष रूप से दो शताब्दियों तक भारतीय उपमहाद्वीप पर शासन करने वाली अर्थव्यवस्था को पीछे छोड़ देना वास्तव में मील का पत्थर है। स्वाधीनता के बाद बीते 75 वर्षों के दौरान भारत की प्रति व्यक्ति आय छह गुना बढ़ी है । निश्चित तौर पर भारत की इस सफलता के पीछे मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों का बड़ा योगदान है ।

भारत 2029 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए तैयार

शक्तिशाली अर्थव्यवस्था के मामले में अभी अमेरिका सबसे आगे है, उसके बाद चीन, जापान और जर्मनी का नम्बर आता है। अर्थशास्त्रियों का मानना है कि 2027 तक भारत जर्मनी को पीछे छोड़ दुनिया की चौथी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। इसके ठीक दो साल बाद यानी 2029 तक भारत तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन कर उभरेगा ।

इस संबंध में इस साल भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के आर्थिक अनुसंधान विभाग की जारी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत 2029 तक तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए तैयार है। भारत के सकल घरेलू उत्पाद का हिस्सा अब 3.5 प्रतिशत है, जो 2014 में 2.6 प्रतिशत था और 2027 में वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद में जर्मनी की वर्तमान हिस्सेदारी के चार प्रतिशत को पार करने की संभावना है।

भारत 2014 के बाद से एक बड़े संरचनात्मक बदलाव से गुजरा है, जिसका यह परिणाम है कि वह इस मुकाम तक पहुंचा है। भारतीय स्टेट बैंक के समूह मुख्य आर्थिक सलाहकार डॉ. सौम्य कांति घोष द्वारा तैयार इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 13.5 फीसदी की वृद्धि हुई है। इस दर पर, भारत के चालू वित्त वर्ष में सबसे तेजी से विस्तार कर रही बड़ी अर्थव्यवस्था होने की संभावना है।

भारत की वार्षिक आर्थिक वृद्धि अगले पांच वर्ष में औसतन 6.4% रहने की उम्मीद

दूसरी ओर ब्रिटेन की एक कंसल्टेंसी संस्था आर्थिक और व्यापार अनुसंधान- सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) ने एक दिन पहले ही कहा है कि भारत 2035 तक विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। रिपोर्ट के 14वें संस्करण के अनुसार, अगले पांच वर्ष में भारत की वार्षिक आर्थिक वृद्धि औसतन 6.4% रहने की उम्मीद है, और फिर उसके बाद के नौ वर्षों में भारत की विकास दर औसतन 6.5% रहने की आशा है। यह उम्मीद है कि 2022-23 में भारतीय अर्थव्यवस्था 6.8% की दर से बढ़ेगी।

रिपोर्ट किए गए विकास चार्ट में भारत 2022 में विश्व आर्थिक लीग तालिका में पांचवें स्थान से चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद 2037 तक वैश्विक रैंकिंग में तीसरे स्थान पर पहुंच जाएगा। इसी तरह से अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) का मानना है कि न 2029 और न ही 2035 तक बल्कि भारत आनेवाले पांच सालों के बाद वर्ष 2027-28 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की उम्मीद बरकरार रखे हुए है।

कहना होगा कि अभी जिस तरह से भारत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में निर्णय लिए जा रहे हैं, उन्हें देखते हुए भारत को जल्द ही दुनिया तीसरी आर्थिक महाशक्ति के रूप में देखेगी । इसका अर्थ यह है कि केंद्र की मोदी सरकार के नेतृत्व में जिस तरह से देश में निर्णय लिए जा रहे हैं और जिस दिशा में चला जा रहा है, वह भारत के लिए सफलता के चरण हैं।

इनका कहना है: Bye-Bye 2022

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में समृद्ध और शक्तिशाली भारत का निर्माण हो रहा है। भारत वैश्विक आर्थिक चुनौतियों के बावजूद अगले 10 से 15 वर्षों में दुनिया की तीसरी आर्थिक महाशक्तियों में शामिल हो जाएगा, क्योंकि भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर दुनिया में सबसे तेज है ।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर विचार है कि देश सकारात्मक बदलाव की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है। कोविड की मार से दुनिया की बड़ी-बड़ी अर्थव्यवस्थाएं अभी तक नहीं उबर पाई हैं जबकि भारत अच्छी अवस्था में खड़ा है। इसका कारण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में समय पर उठाए गए जरूरी कदम हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने एमएसएमई सहित अन्य इंडस्ट्री के लिए तथा खेती-किसानी व आम गरीब आदमी के लिए एक के बाद एक अनेक लाभकारी प्रयास किए हैं । समय पर वैक्सीन बनाने, पीएलआई जैसी स्कीम सहित शक्तिशाली अर्थव्यवस्था के लिए जरूरी सभी काम मोदी जी का नेतृत्व कर रहा है। सच पूछिए तो आज वैश्विक क्षितिज पर यही भारत के आगे बढ़ने का कारण है।

Show More

Related Articles

Back to top button