India Newsविशेष

भारतीय वैभव की विरासत ‘गंगा विलास’ देश को समर्पित

गंगा विलास क्रूज आत्मनिर्भर भारत का उदाहरण है।

आज का दिन भारत के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है क्योंकि आज प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने दुनिया की सबसे लंबी नदी क्रूज – एमवी गंगा विलास (MV Ganga Vilas) को हरी झंडी दिखाई। क्रूज 51 दिनों में भारत और बांग्लादेश के पांच राज्यों में 27 नदी प्रणालियों में 3,200 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। पीएम मोदी ने कहा कि एमवी गंगा विलास रिवर क्रूज की शुरुआत देश में अंतर्देशीय जलमार्गों के विकास का जीता-जागता उदाहरण है। पीएम मोदी ने कहा कि 24 राज्यों में 111 राष्ट्रीय जल राजमार्गों के विकास पर काम किया जा रहा है। प्रधान मंत्री ने वाराणसी में टेंट सिटी का भी उद्घाटन किया और शुक्रवार को 1,000 करोड़ रुपये से अधिक की कई अन्य अंतर्देशीय जलमार्ग परियोजनाओं की आधारशिला रखी।

तो आइए जानते है कि आखिर किन वजहो से खास है यह क्रूज

1-गंगा विलास क्रूज आत्मनिर्भर भारत का उदाहरण है।
2- क्रूज का इंटीरियर देश की संस्कृति और धरोहर को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है।
3-इंटीरियर में सफेद, गुलाबी, लाल और हल्के रंगों का इस्तेमाल किया गया है। वुडेन फ्लोरिंग और रंगों की बेहतरीन कारीगरी पर्यटकों को सबसे अधिक पसंद आ रहा है।
4-क्रूज में तीन डेक हैं। तीनों ही अलग-अलग सुविधाओं के साथ हैं। क्रूज पूरी तरह से इको फ्रेंडली है। वेस्ट मैनेजमेंट की व्यवस्था भी लाज़वाब है यानी कचरों को सुरक्षित रूप से निस्तारित किया जा सकेगा।
5-प्रदूषण का स्तर शून्य रखने के र्लिए इंधन के रूप में हाई स्पीड डीजल का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमें लगे ऑयल स्प्रेडर्स डीजल को गंगा में जाने से बचाते हैं।
6- क्रूज में 60 हजार लीटर पानी स्टोरेज़ क्षमता है। क्रूज को इस तरह डिजाइन किया गया है कि पर्यटकों को प्लास्टिक की बोतलों की जरूरत ही ना पड़े। क्रूज में आधुनिक उपकरणों से लैस एसटीपी लगाई गई है।

और भी कई खास बातें की पीएम मोदी ने

सबसे पहले तो पीएम(Narendra Modi) ने क्रूज को रवाना करने से पहले हर-हर महादेव के उद्घोष सेअपना संबोधन शुरू किया।
ईसके बाद पी एम ने कहा मैं सभी विदेश पर्यटकों का स्वागत करता हूं।
पीएम ने जलमार्ग को सबसे सस्ता साधन बताया।
गंगा विलास (Ganga Vilas) क्रूज 25 अलग-अलग नदियों से होकर गुजरेगा।
देश में कुल 111 जलमार्ग हैं जिनमें 5 पुराने, 106 नए जलमार्ग है।
20,275 किमी. के जलमार्ग 24 राज्यों में फैले हुए हैं।
पीएम जलमार्ग से सबसे बड़ा फायदा है इससे सड़क की जाम में फंसने का कोई झंझट नहीं होता, एक्सीडेंट का खतरा सबसे कम होता है।
परिवहन की दृष्टि से भी बडी क्षमता है क्रूज़ की ,अन्य साधनों के मुकाबले जलमार्ग से आसान है।
क्रूज टूरिज्म का ये नया दौर युवाओं को रोजगार देगा।

सीएम योगी क्या बोले इसपर

पीएम मोदी से पहले सीएम योगी (Yogi Adityanath) ने कार्यक्रम को संबोधित किया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि पिछले तीन दिनों में गंगा विलास के पर्यटकों ने वाराणसी और आसपास के स्थानों का दौरा किया और यहां की संस्कृति को जाना। काशी आज एक नई पहचान के साथ आगे बढ़ रही है।

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी किया संबोधित…

तेजस्वी यादव(Tejasvi Yadav) ने कहा कि गंगा विलास क्रूज बिहार के 6 स्थलों बक्सर, छपरा, पटना, सिमरिया, मुंगेर, सुल्तानगंज और कहलगांव में रुकेगा। ये राज्य के लिए सौभाग्य की बात है। इससे पर्यटकों का बिहार की संस्कृति और इतिहास से परिचय होगा।

आप टिकट बुकिंग कब और कैसे करा सकते है

अंतरा लक्ज़री रिवर क्रूज़(Antara Luxury River Cruises) की आधिकारिक वेबसाइट से टिकट बुक कर सकता है। वर्तमान में बुकिंग नहीं हो सकती क्योंकि चल रही यात्रा को स्विट्जरलैंड की एक कंपनी ने बुक किया है। अगली यात्रा सितंबर में होने की संभावना है जिसके लिए बुकिंग शुरू हो जाएगी।

आखिर किराया कितना लगेगा ?

51-दिवसीय क्रूज की योजना विश्व विरासत स्थलों, राष्ट्रीय उद्यानों, नदी घाटों और बिहार में पटना, झारखंड में साहिबगंज, पश्चिम बंगाल में कोलकाता, बांग्लादेश में ढाका और असम में गुवाहाटी जैसे प्रमुख शहरों सहित 50 पर्यटन स्थलों की यात्रा के साथ बनाई गई है। प्रति दिन एमवीए गंगा विलास क्रूज की कीमत लगभग ₹25,000 से ₹50,000 होगी। पूरी यात्रा की कुल लागत लगभग ₹20 लाख प्रति यात्री होगी । आलीशान जहाज की क्षमता 36 यात्रियों को ले जाने की है।

Show More

Related Articles

Back to top button