India News

Ram Rahim: पत्रकार की हत्या,साध्वी से रेप मामले में दोषी है राम रहीम, दोषी राम रहीम को बार-बार मिल रही पैरोल

Ram Rahim: गुरमीत राम रहीम डेरा सच्चा सौदा प्रमुख 40 दिनों की पैरोल मिलने के बाद शनिवार को बागपत स्थित बरनावा आश्रम पहुंचकर...

Ram Rahim: गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim Singh) डेरा सच्चा सौदा प्रमुख 40 दिनों की पैरोल मिलने के बाद शनिवार को बागपत स्थित बरनावा आश्रम पहुंचकर जहां उन्होंने अपनी फ्रीडम का जश्न मनाया. इस समय वो तलवार से केक कट करते दिखाई दिए. आपको बता दें कि दरअसल, राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में हत्या और रेप के मामले में 20 साल की सजा काट रहे हैं.

राम रहीम ने तलबार से केक काटकर मनाया जश्न: Ram Rahim

3 बार पैरोल पर इस सजा के दौरान राम रहीम अब तक जेल बाहर आ चुके हैं. इस बार तो उन्होंने बाहर आकर अपनी आजादी का जश्न मनाया है. एक वीडियो इस जश्न का सामने आया है जिसमें राम रहीम तलवार से केक काटते हुए दिख रहे हैं. सोशल मीडिया पर ये वीडियो बहुत वायरल हो रहा है. पेरोल से बहार आने पर राम रहीम को इतनी खुसी हुई है कि उन्होंने चाकू कि वजह तलवार से ही केक कट कर दिया.

अपनी जमानत अर्जी में राम रहीम ने कहा था कि वो 25 जनवरी को पूर्व डेरा प्रमुख शाह सतनाम सिंह की जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होना चाहते हैं. एक वीडियो में सोशल मीडिया पर सामने आयी राम रहीम को ये कहते सुनाई देते हैं, 5 साल बाद जश्न मनाने का मौका मिला है. उन्होंने कहा मुझे कम से कम 5 केक काटने चाहिए. ये पहला केक है. शस्त्र अधिनियम के तहत हथियारों का सार्वजनिक प्रदर्शन (तलवार से केक काटना) पर रोक है.
राम रहीम से जुड़े बड़े विवाद के बारे में

पत्रकार की हत्या का आरोप: Ram Rahim

एक पत्रकार की हत्या के मामले में भी राम रहीम सजा काट रहे हैं. साध्वी बलात्कार मामले को पत्रकार ने अपने न्यूज़ पेपर में छापा था नवंबर 2002 में जिसके बाद उसकी गोली मारकर हत्या करा दी गई थी. वर्ष 2006 में इस मामले को CBI के हाथ सौंपा गया था. एजेंसी के वकील HP S. वर्मा ने CBI कोर्ट के बाहर कहा था, “गुरमीत राम रहीम सिंह और उनके पूर्व प्रबंधक कृष्ण लाल को IPC की धारा 120B (आपराधिक साजिश) के साथ धारा 302 (हत्या) के तहत दोषी ठहराया गया.

साध्वी के साथ रेप का मामला

साध्वी के साथ रेप का आरोप राम रहीम पर लगा था. साल 2002 में ये आरोप एक लिखित खत के द्वारा लगाया गया था. उस दौरान हाई कोर्ट ने मामले को लेकर CBI जांच के आदेश दिए थे. CBI द्वारा जांच में आरोपों को सही पाया गया. और राम रहीम को अरेस्ट करने के आदेश दिए गए थे.

रंजीत सिंह की हत्या का आरोप

राम रहीम का मई 2002 में साध्वियों का यौन शोषण (Sexual Exploitation) का आरोप लगाने वाले गुमनाम पत्र के बाद इस शख्स को खोजने के लिए अपने लोगों को लगाया था. जुलाई 2002 में डेरा की अहम 10 लोगों की टीम ने डेरा के पूर्व प्रबंधक रंजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी थी. रंजीत सिंह कि उस चिट्ठी के पीछे योगदान मिला था.

साधुओं को नपंसुक

400 साधुओं को राम रहीम पर नपंसुक बनाने का भी मामला दर्ज है. साधुओं को ये कहकर राम रहीम नपुसंक बनाया गया कि ऐसा होने से वो लोग भगवान को महसूस कर सकेंगे. अपनी श्रद्धा को भगवान के प्रति समर्पित कर सकेंगे.

Show More

Related Articles

Back to top button