India NewsSports News

Wrestlers against WFI कुश्ती संघ अध्यक्ष पर कुकृत्य का आरोप

बृजभूषण सिंह का बयान Wrestlers against WFI: वहीं, बृजभूषण सिंह (Brijbhushan Singh) ने कहा कि सभी आरोप निराधार हैं

Wrestlers against WFI: भारतीय पहलवानों के द्वारा भारतीय कुश्ती संघ (Indian Wrestling Federation) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ कई बडे आरोप लगाने के बाद भारतीय कुश्ती संघ के साथ साथ भरतीय राजनीति में भूचाल आ गया है। क्योंकि पहलवानों ने संघ अध्यक्ष के खिलाफ यौन उत्पीडन के साथ दुर्व्यवहार,भ्रष्टाचार एवं पद के दुरूपयोग जैसे आरोप लगाए है इसके साथ ही पहलवानों ने कुश्ती संघ में चल रहे बडे स्तर पर शोषण का आरोप भी लगाया है । जिसमें कोच और अधिकारियों के ऊपर भी गंभीर आरोप है । इस पूरे मामले के कारण राजनैतिक सरगर्मियाँ बढ गई है ।

पहलवानों ने रखा मौन व्रत

Wrestlers against WFI: बुधवार को शुरू हुआ पहलवानों का धरना गुरुवार को भी जारी है। अपने प्रदर्शन के दूसरे दिन पहलवानों ने मौन व्रत रखा है। सभी पहलवान दिल्ली के जंतर-मंतर में धरने पर बैठे हुए हैं। इस बीच फोगाट खाप ने पहलवानों का समर्थन किया फोगाट खाप ने विनेश फोगाट के आरोपों को सही बताते हुए धरने पर बैठे पहलवानों का समर्थन किया है। फोगाट खाप ने दोपहर में सभी खापों की बैठक भी बुलाई है।

72 घंटे में देना होगा जवाब : खेल मंत्री अनुराग ठाकुर

Wrestlers against WFI:आरोपों से घिरे कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण सिंह (Brijbhushan Singh) ने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर(Anurag thakur) से बात की है। उन्होंने अपने आरोपों पर खेल मंत्री को सफाई दी है। इससे पहले खेल मंत्रालय ने कुश्ती संघ से 72 घंटे के अंदर पहलवानों के आरोपों पर जवाब मांगा था। 72 घंटे में देना होगा जवाब केंद्रीय खेल मंत्रालय ने भारतीय कुश्ती संघ (डब्ल्यूएफआई) से इस मामले पर स्पष्टीकरण मांगा है। कुश्ती संघ को पहलवानों के आरोपों पर अगले 72 घंटों के अंदर जवाब देने का निर्देश दिया गया है।

रद्द हुआ महिला खिलाडियों का कैम्प

Wrestlers against WFI: महिला राष्ट्रीय कुश्ती प्रशिक्षण शिविर रद्द कर दिया गया है। यह शिविर लखनऊ के भारतीय खेल प्राधिकरण के राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्र में 18 जनवरी से लगना था जिसमें 13 प्रशिक्षकों सहित 41 पहलवानों को शामिल होना था।

अब तक क्या-क्या हुआ?

बुधवार सुबह से शुरू हुए विरोध प्रदर्शन में 30 भारतीय पहलवानों ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना दिया और संघ अध्यक्ष की तानाशाही पर सवाल उठाए।Wrestlers against WFI इन पहलवानों में विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया और साक्षी मलिक जैसे बड़े पहलवान भी शामिल थे। पहलवानों ने भारतीय कुश्ती संघ और संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर मनमानी के आरोप लगाए और शाम को अपना पक्ष रखने की बात कही।

विनोद तोमर भी मिले पहलवानों से

Wrestlers against WFI: इस बीच कुश्ती संघ के सहायक सचिव विनोद तोमर(Vinod Tomar) भी प्रदर्शन कर रहे पहलवानों से मिले। उन्होंने कहा कि अगर पहलवान संघ के पास आते हैं तो उनकी सभी समस्याओं का समाधान किया जाएगा, लेकिन पहलवान धरने पर बैठे रहे।

पहलवानों ने लगा दी आरोपो की झडी

Wrestlers against WFI: शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस में खिलाडियों ने कुश्ती संघ व संघ के अध्यक्ष पर आरोपो की झडी लगा दी । बजरंग पूनिया ने कहा कि संघ में बैठे लोग मनमानी कर रहे हैं। उन्हें खेल के बारे में कुछ नहीं पता। हमें कोच नहीं दिए जाते हैं और इसका विरोध करने पर गालियाँ और धमकियाँ दी जाती है। वहीं, विनेश फोगाट ने बृजभूषण शरण सिंह और संघ में उनके चहेते लोगों पर यौन शोषण के आरोप लगाए। विनेश ने कहा कि बृजभूषण शरण सिंह ने कई लड़कियों का यौन शोषण किया है। उनसे खास लोग भी महिला पहलनवानों का शोषण करते हैं। इसके अलावा पुरुष कोच भी लड़कियों महिला कोच का भी शोषण करते हैं। विनेश के इन आरोपों के बाद बवाल मच गया। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल भी खिलाड़ियों से मिलीं और बृजभूषण सिंह(Brijbhushan Singh) को गिरफ्तार करने की मांग की।

बृजभूषण सिंह का बयान

Wrestlers against WFI: वहीं, बृजभूषण सिंह (Brijbhushan Singh) ने कहा कि सभी आरोप निराधार हैं। 97 फीसदी पहलवान संघ के साथ है। अगर ये आरोप सही साबित हुए तो वह धरने पर बैठ जाएंगे। उन्होंने यह भी आरोप लगाए कि जो पहलवान धरने पर बैठे हैं, वह ट्रायल नहीं देना चाहते। हालांकि, पहलवानों का प्रदर्शन जारी रहा। अब खेल मंत्रालय ने भारतीय कुश्ती संघ से जवाब मांग लिया है। वहीं, 18 जनवरी से लखनऊ में शुरू होने वाला महिला पहलवानों का कैंप भी रद्द हो गया है।

प्रियंका भी आईं पहलवानों के समर्थन में

Wrestlers against WFI: प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने धरने पर बैठे पहलवानों का समर्थन करते हुए
ट्वीट किया “हमारे खिलाड़ी देश की शान हैं। विश्व स्तर पर अपने प्रदर्शन से वे देश का मान बढ़ाते हैं। कुश्ती फेडरेशन व उसके अध्यक्ष पर खिलाड़ियों ने शोषण के गंभीर आरोप लगाए हैं। इन खिलाड़ियों की आवाज सुनी जानी चाहिए। आरोपों की जांच कर उचित कार्रवाई की जानी चाहिए।”

Show More

Related Articles

Back to top button